''आज़ाद है मेरी परछाई मेरे बगैर चलने को,,,मै नहीं चाहता मेरे अपनों को ठोकर लगे...ये तो 'वर्तमान की परछाई' है ऐ दोस्त...जिसकी कशमकश मुझसे है...!© 2017-18 सर्वाधिकार सुरक्षित''

Recent News

LATEST:

Wednesday, January 4, 2012

''पगलाई है बस्ती सारी...!'' इक नामुमकिन नयी ग़ज़ल


पगलाई  है सारी बस्ती    इक तेरे  रूठ जाने से 
बिखर गये हो अक्षर जैसे पन्नों के फट जाने से

मिटटी के नादान घरों की छत की किस्मत क्या होगी
तिरपालों का मोल बढ़ा है    बारिश के आ जाने से

कोरे-कोरे कीर्तन है और भजनों में कोई भाव नहीं
भगवानों में रोष बहुत है   मंदिर के ढह जाने से

कुसूर नहीं है इसमे तेरा तू तो आता-जाता था
उसके घर में आग लगी है   मेरा पता बताने से

किनारों की खता नहीं ये टूट-बिखरना जायज है
दरियाओं में होड़ लगी थी  जल्दी ही भर जाने से 

साँझ ढले घर को आ जाना बेशक मुमकिन है 'हरीश'
रातों के अक़सर मसलें है   सूरज के ढल जाने से

पगलाई  है सारी बस्ती    इक तेरे  रूठ जाने से 
बिखर गये हो अक्षर जैसे पन्नों के फट जाने से...!

11 comments:

  1. कोटिशः आभार शिवम् जी...
    हमारी पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए...!

    ReplyDelete
  2. वाह!!! क्या बात है बहुत ही सुंदर एवं प्रभावशाली रचना ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  3. bahut khoob kore kore keertan..waah ye sher bahut achcha laga...jabardast

    ReplyDelete
  4. @पल्लविजी, टिपण्णी और आमंत्रण के लिए शुक्रिया,,,बेफिक्र रहिये यायावर है हम आपकी पोस्ट पढने घूमते घूमते आ ही जायेंगे
    @दिलीपजी शेर पसंद करने के लिए तह-ऐ-दिल से शुक्रिया...

    ReplyDelete
  5. वाह!!!!!!बहुत खुबशुरत गजल,...लिखी हरीश जी,

    "काव्यान्जलि":--में स्वागत है

    ReplyDelete
  6. बिखर गये हो अक्षर जैसे पन्नों के फट जाने से...
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  7. सराहना के लिए शुक्रिया @धीरेन्द्रजी @वाणी जी @ प्रकाशजी
    @धीरेन्द्रजी,आप स्वागत करो और हम न आये ये तो नामुमकिन है...

    ReplyDelete
  8. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ....!

    ReplyDelete

अरे वाह! हुजुर,आपको अभी-अभी याद किया था आप यहाँ पधारें धन्य भाग हमारे।अब यहाँ अपने कुछ शब्दों को ठोक-पीठ के ही जाईयेगा मुझे आपके शब्दों का इन्तेजार है...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Wordpress Gadgets