''आज़ाद है मेरी परछाई मेरे बगैर चलने को,,,मै नहीं चाहता मेरे अपनों को ठोकर लगे...ये तो 'वर्तमान की परछाई' है ऐ दोस्त...जिसकी कशमकश मुझसे है...!© 2017-18 सर्वाधिकार सुरक्षित''

Recent News

LATEST:

Monday, December 26, 2011

mai wo hargiz n tha...

wo itana khoodgarj kyu hai....
usaki saansein mere kam aa sakti thi,
do pal hi sahi jinda to rahta,
wo saudgar tha pta n tha...
muhabbat usaki jhuthi thi pta n tha...
mai bhi kitna bhola tha ki usaki khatir khood bewafaa ho gya....
meri fitarat thi muskurane ki behisaab taqlifo me bhi..
wo n samjha ye kabhi bhi...
jo samjha wo mai n tha...hargiz n tha.....!!!

0 comments:

Post a Comment

अरे वाह! हुजुर,आपको अभी-अभी याद किया था आप यहाँ पधारें धन्य भाग हमारे।अब यहाँ अपने कुछ शब्दों को ठोक-पीठ के ही जाईयेगा मुझे आपके शब्दों का इन्तेजार है...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Wordpress Gadgets