''आज़ाद है मेरी परछाई मेरे बगैर चलने को,,,मै नहीं चाहता मेरे अपनों को ठोकर लगे...ये तो 'वर्तमान की परछाई' है ऐ दोस्त...जिसकी कशमकश मुझसे है...!© 2017-18 सर्वाधिकार सुरक्षित''

Recent News

LATEST:

Saturday, May 12, 2012

जिंदगी जीने के जो आसां तरीके है (इक नादाँ ग़ज़ल)


जिंदगी जीने के जो आसां तरीके है 
मौत की चौखट पे मुद्दतों से सीखे है 

तू ही था जिस पर मुझे नाजिश था कभी 
आज तेरे ख्याल भी खामोश फीके है 

होश में रहना गज़ब हुनर की बात है 
इश्क की शराब जो हम पी के बैठे हैं 

परेशाँ है बादशाहों के महल घर-बार  
बेफिक्र चैन-औ-सुकूँ से फकीर लेटे है 

क्या खूब सीखा हैं सलीका बंदगी का ऐ' हरीश' 
महबूब के पैरों की धूल सर पर उन्डेले है 

नाजिश =गर्व

8 comments:

  1. रविकर चर्चा मंच पर, गाफिल भटकत जाय |
    विदुषी किंवा विदुष गण, कोई तो समझाय ||

    सोमवारीय चर्चा मंच / गाफिल का स्थानापन्न

    charchamanch.blogspot.in

    ReplyDelete
  2. umda gazal hai ,bdhai

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन अल्फाज उम्दा नज्म ....शुक्रिया जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या खूब सिखा हैं सलीका बंदगी का ऐ'हरीश'
      महबूब के पैरों की धुल सर पर उन्डेले है
      ek shair me do do galatiyaan nahin chalengee zanaab ,gazal achchhi hai lekin vartani kee shuddhi akharti ahi .kripyaa shuddh karen 'sikhaa 'nahin hai 'seekhaa'hai .likh kar dekhen .aur dhul nahin dhool hai .shukriyaa .

      Delete
    2. शुक्रिया जनाब आपका मशवरा सर आँखों पर ...
      'सिखा' की 'सीखा' में तब्दिली हो गयी...और 'धुल' बिचारी 'धूल' बन के रह गयी...!

      Delete
  4. बहुत खूब ! बेहतरीन गज़ल...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर गजल.....

    ReplyDelete

अरे वाह! हुजुर,आपको अभी-अभी याद किया था आप यहाँ पधारें धन्य भाग हमारे।अब यहाँ अपने कुछ शब्दों को ठोक-पीठ के ही जाईयेगा मुझे आपके शब्दों का इन्तेजार है...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Wordpress Gadgets